Essay on Alfred Nobel अल्फ्रेड नोबेल पर निबंध

Alfred Nobel was born on 21 October 1835, died 10 December 18 to 96 Special is going to tell about him. He was recognized by his government with the Nobel Prize. He invented the biggest thing invented dynamite explosive. In his chest, he was invited to award $ 9000000 annually to a person who made significant outstanding contributions in five groups. The new tradition was heralded by the Alfred Nobel was born in Stockholm, the Swedish capital. All-Friend was only 9 years old, his family ran Russia. His interest in chemistry was from childhood, leaving everyday in 1850. After he went to Pareek, he studied the same chemistry. He did 4 years of higher studies in the United States, from there he went to father heaven. Or mean bankruptcy went back to Sweden after the father’s death. Nobel started male experiments on the explosion there and did workshops near the online class. Nobel was freshly set up, but unfortunately he was not giving up the explosive called nitroglycerin. One day there was such an explosion that the whole workshop of the workshop flew away. In the accident, Nobel, including his younger brother, five people Deaths The Swedish government calls Nobel mad as a means to declare them wrong. Not allowed to open work shop. Nobel’s factory in Germany was destroyed by explosion. France has banned nitroglycerin due to multiple explosions. He was given his $ 900,000 in 18 to 96 given and his will of the year was a lot of chemistry Shahid’s medicine and peace later. Economics should also be awarded for significant contributions. Knight’s name he applied in 9866 called Kiss Har Har packed in soil Nitroglycerin Receiver Nobel found that due to soil and could not be protected, this invention named the explosive Knight. He became Nitroglycerin powder list right in 1878, the whole world took his blast copper noob L’known as he slowly great scientist that has been receiving much pattern 100 after very hard.

ऑल फ्रेंड पॉर्नहॉट का जन्म 21 अक्टूबर 1835 को हुआ था निधन उनका 10 दिसंबर 18 से 96 विशेष उनके बारे में यह बताने जा रहे हैं उन्हें नोबेल पुरस्कार से उनकी सरकार ने उन्हें मान्यता प्राप्त किए हुए थे वह सबसे बड़ा चीज़ आविष्कार किए डायनामाइट विस्फोटक का आविष्कार उसी के छाती में उन्हें $9000000 राशि के साथ पांच ग्रुप में महत्वपूर्ण उत्कृष्ट योगदान देने वाले व्यक्ति को प्रतिवर्ष अवार्ड देने की नसीहत लिख कर नई परंपरा का सूत्रपात किया गया था ऑल फ्रेंड worn-out नोबेल का जन्म स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में हुआ था ऑल फ्रेंड 9 साल के ही थे कि परिवार उनका रूस चलाया रसायन विषय में उनकी रुचि बचपन से ही थी सन 1850 में रोज छोड़ने के बाद उन्होंने पारीक चले गए वही केमिस्ट्री का अध्ययन किया है संयुक्त राज्य अमेरिका में 4 साल उच्च अध्ययन किए वहां से वह पिता स्वर्ग गए 18 सो 59 में पिताजी की फैक्ट्री समाप्त हो गया मतलब दिवाला निकल गया पिता के मृत्यु के बाद स्वीडन लौट आए वहां विस्फोट को पर नोबेल ने पुरुष प्रयोग शुरू किए और ऑनलाइन वर्ग के समीप वर्कशॉप किया स्थापना की नोबेल के हौसले बुलंद थे क्यों किंतु दुर्भाग्य उनका पीछा नहीं छोड़ रहा था वह नाइट्रोग्लिसरीन नामक विस्फोटक का निर्माण करते थे एक दिन ऐसा विस्फोट हुआ कि वर्कशॉप के पूरा परखच्चे उड़ गये हादसे में नोबेल ने छोटे भाई समेत पांच व्यक्तियों की मृत्यु हो गई स्वीडन सरकार ने नोबेल को सिरफिरा करार दिया मतलब कि उन्हें घोषित गलत कर दिया पुनः वर्क शॉप खोलने की आज्ञा नहीं दी जर्मनी में भी नोबेल का कारखाना विस्फोट से तबाह हो गया अनेकों विस्फोटों के कारण फ्रांस बेल्जियम ने नाइट्रोग्लिसरीन पर पाबंदी लगा दी गई 18 से 96 में अपने हुए $9000000 की रकम छोड़ गए और वसीयत की उसके ब्यास से हर साल बहुत की रसायन शाहिद चिकित्सा और शांति बाद में अर्थशास्त्र भी महत्वपूर्ण योगदान के लिए पुरस्कार दिया जाए नाइट का उन्होंने नाम से 9866 में किस लागू हर नामक मिट्टी में पैक नाइट्रोग्लिसरीन रिसीवर नोबेल ने पाया कि मिट्टी की बदौलत होता नहीं और उसे सुरक्षित रखा जा सकता है इस आविष्कार से विस्फोटक का नाम नाइट रखा गया अट्ठारह सौ सतासी में उन्होंने नाइट्रोग्लिसरीन पाउडर लिस्ट राइट हो जाए सारी दुनिया ने हाथों लिया अपने विस्फोट कॉपर नोबेल ने 100 से ज्यादा पैटर्न प्राप्त कर दिए इसी से वह धीरे धीरे महान वैज्ञानिक के रूप में जाने जाते हैं बहुत मेहनत के बाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Almost Ready ! Please Wait