html> जर्मनी में नाजीवाद का उदय | CompanyBoy

जर्मनी में नाजीवाद का उदय

जब भी हम विश्व इतिहास को समझना चाहते हैं और विश्व इतिहास को समझने के लिए अपनी रुचि दिखाते हैं तो विश्व के इतिहास में जर्मनी के इतिहास को समझना अपने आप में बहुत जरूरी है जर्मनी का इतिहास बहुत ही दिलचस्प और बहुत ही समझने वाला रहा है यह हमें बहुत सीख भी देता है ताकि हम आगे अपने देश की तरक्की में किस प्रकार से जर्मनी के इतिहास से सीख लेकर और आगे बढ़ेंगे यह भी हमें सीखने को मिलता है जिस प्रकार से जर्मनी में नाजीवाद का उदय हुआ और जिस प्रकार जर्मनी के नाजीवाद से हमें सुख मिलता है उन चीजों को हम लोग आगे सिलसिलेवार ढंग से समझते हैं साथी साथ में आप सभी लोगों को जर्मनी के इतिहास के बारे में और भी बहुत सारी चीजें समझाने का प्रयास करूंगा

जब भी हम विश्व इतिहास को समझना चाहते हैं और विश्व इतिहास को समझने के लिए अपनी रुचि दिखाते हैं तो विश्व के इतिहास में जर्मनी के इतिहास को समझना अपने आप में बहुत जरूरी है जर्मनी का इतिहास बहुत ही दिलचस्प और बहुत ही समझने वाला रहा है यह हमें बहुत सीख भी देता है ताकि हम आगे अपने देश की तरक्की में किस प्रकार से जर्मनी के इतिहास से सीख लेकर और आगे बढ़ेंगे यह भी हमें सीखने को मिलता है जिस प्रकार से जर्मनी में नाजीवाद का उदय हुआ और जिस प्रकार जर्मनी के नाजीवाद से हमें सुख मिलता है उन चीजों को हम लोग आगे सिलसिलेवार ढंग से समझते हैं साथी साथ में आप सभी लोगों को जर्मनी के इतिहास के बारे में और भी बहुत सारी चीजें समझाने का प्रयास करूंगा

जर्मनी में नाजी दल का उत्थान हिटलर के नेतृत्व में हुआ यह बात आपको अच्छी तरीके से समझ लेना चाहिए हिटलर के नेतृत्व में जर्मनी में नाजीवाद का उदय हुआ अगर हम हिटलर के जन्म के बारे में जानना चाहें तो हिटलर का जन्म 20 अप्रैल को आस्ट्रिया के बिना नामक शहर में हुआ था हिटलर बचपन से चित्रकार बनना चाहता था और चाहते थे जब मैं बचपन से चित्रकार बनना चाहते थे तो किस प्रकार से उन्होंने जल का उत्थान किया इस चीज को हमें समझना चाहिए और समझने का प्रयास करना चाहिए प्रथम विश्व युद्ध 1914 में

प्रथम विश्व युद्ध जब 1914 से 1918 के बीच हुआ तब इसमें हिटलर ने जर्मनी की तरफ से लड़े और युद्ध में अभूतपूर्व वीरता के लिए उन्हें आयरन क्रॉस प्राप्त हुआ था साथ ही साथ अभूतपूर्व वीरता के कारण हिटलर 1914 से 1918 के बीच में जर्मनी में बहुत ही अभूतपूर्व और वीर व्यक्ति के रूप में उभर कर सामने युद्ध के बाद हिटलर जर्मन वर्कर्स पार्टी का सदस्य बने जर्मन वर्कर्स पार्टी का सदस्य बनने के बाद 1920 ईस्वी में किस पार्टी का नाम बदलकर नेशनल सोशलिस्ट जर्मन वर्कर्स पार्टी रखा गया

1923 ईस्वी में हिटलर ने लुडेनडॉर्फ के साथ मिलकर वायु और जनतंत्र के खिलाफ विद्रोह कर दिया विद्रोह का सफल हुआ लेकिन हिटलर को बंदी बना लिया गया जेल में ही हिटलर ने अपने प्रसिद्ध आत्मकथा निक कैंप की रचना की थी हिटलर के द्वारा लिखी गई रचना

1924 ईस्वी में जब हिटलर को जेल से रिहा कर दिया गया जेल से रिहा होने के बाद उसने अपने दल को फिर से संगठित किया और स्वास्थ्य के प्रत्येक के रूप में ग्रहण किया और इस प्रकार से उसने अपने दल को आगे बढ़ाना शुरू कर दिया याद रखें यह समय है 1924 का अब इसके बाद आपको यहां पर समझना चाहिए कि 19th 32 ईसवी के चुनाव में हिटलर के नाजी पार्टी को 230 सीटें प्राप्त हुई परंतु उसे सरकार बनाने का मौका नहीं मिला और इस प्रकार से 1932 के इलेक्शन में हिटलर अपना सरकार नहीं बना सका आगे चलकर आपको यह पता चलेगा कि बाद में राष्ट्रपति ने 30 जनवरी 1933 को मनोनीत कर दिया आप देख रहे हैं कि 1930 के चुनाव में तो नहीं जीत सके लेकिन राष्ट्रपति ने 30 जनवरी 1933 को हिटलर कर दिया अगस्त में राष्ट्रपति के पद को मिला कर दिया

जब हिंडोन वर्क की मृत्यु के बाद चांसलर और राष्ट्रपति के बाद को मिला दिया गया तब हिटलर जर्मनी का सर्विस शर्मा बन गया सुप्रीम व्यक्ति के रूप में हिटलर जर्मनी का एकमात्र व्यक्ति था अगस्त 1934 में फील्डिंग की मृत्यु हुई और हिटलर जर्मनी का तानाशाह के रूप में उभरने के लिए एक नया इतिहास बन चुका गुप्त संगठन हिटलर ने ही किया था एक रास्ता एक नेता का नारा के द्वारा ही दिया गया एक राष्ट्र एक नेता एक राष्ट्र एक नेता यह कथन जर्मनी देखते हैं किस प्रकार से हिटलर नारियल का प्रचार का था थे

जर्मन सुरक्षा परिषद की स्थापना 4 अप्रैल 1933 ईस्वी को की गई साथ ही साथ हिटलर ने 16 मार्च 1935 ईस्वी में जर्मनी में पुणे सशक्तिकरण की घोषणा की उसने वर्साय संधि की नीति करण संबंधी सभी धाराओं को तोड़ने की घोषणा की एवं उसने पूरे जर्मनी में अनिवार्य सैनिक सेवा लागू कर दिया इस प्रकार से साम्यवादी खतरा से बचने के लिए जर्मनी इटली एवं जापान के बीच कॉमेंट्स विरोधी समझौता 1936 में संपन्न हुआ जो कालांतर में धुरी राष्ट्र के नाम से प्रसिद्ध हुआ और इस प्रकार से जब हिटलर ने 1940 को पोलैंड पर आक्रमण कर दिया हिटलर के विस्तार के लिए सभी विरोधी नीति का अर्थ विरोधी नीति 1945 हेलो